तेरा मुखु सुहावा जीउ सहज धुनि बाणी / अर्जुन देव

तेरा मुखु सुहावा जीउ सहज धुनि बाणी।। चिरु होआ देखे सारिंग पाणी।। धंनु सु देसु जहा तूं वसिआ मेरे सजण मीत मुरारे जीउ।। हउ घोली हउ घोल घुमाई गुरु सजण मीत मुरारे जीउ।। अर्जुन देव …

Read moreतेरा मुखु सुहावा जीउ सहज धुनि बाणी / अर्जुन देव

जो गुज़रता है गुज़र जाए जी / अब्दुल्लाह ‘जावेद’

जो गुज़रता है गुज़र जाए जी आज वो कर लें के भर जाए जी आज की शब यहीं जीना मरना जिस को जाना हो वो घर जाए जी इस गली से नहीं जाना हम को …

Read moreजो गुज़रता है गुज़र जाए जी / अब्दुल्लाह ‘जावेद’

जानिब-ए-दर देखना अच्छा नहीं / अब्दुल्लाह जावेद

जानिब-ए-दर देखना अच्छा नहीं राह शब भर देखना अच्छा नहीं आशिक़ी की सोचना तो ठीक है आशिक़ी कर देखना अच्छा नहीं इज़्न-ए-जलवा है झलक भर के लिए आँख भर कर देखना अच्छा नहीं इक तिलिस्मी …

Read moreजानिब-ए-दर देखना अच्छा नहीं / अब्दुल्लाह जावेद

लगे है आसमाँ जैसा नहीं है / अब्दुल्लाह जावेद

लगे है आसमाँ जैसा नहीं है नज़र आता है जो होता नहीं है तुम अपने अक्स में क्या देखते हो तुम्हारा अक्स भी तुम सा नहीं है मिले जब तुम तो ये एहसास जागा अब …

Read moreलगे है आसमाँ जैसा नहीं है / अब्दुल्लाह जावेद

कोई रिश्ता न हो फिर भी रिश्ते बहुत / अब्दुल्लाह जावेद

कोई रिश्ता न हो फिर भी रिश्ते बहुत आप अपने नहीं आप अपने बहुत राज़ रखते न हम इस तअल्लुक़ को गर लोग रोते बहुत लोग हँसते बहुत दिल की तन्हाइयों का मदावा नहीं घूम …

Read moreकोई रिश्ता न हो फिर भी रिश्ते बहुत / अब्दुल्लाह जावेद

कभी प्यारा कोई मंज़र लगेगा / अब्दुल्लाह जावेद

कभी प्यारा कोई मंज़र लगेगा बदलने में उसे दम भर लगेगा नहीं हो तुम तो घर जंगल लगे है जो तुम हो साथ जंगल घर लगेगा अभी है रात बाक़ी वहशतों की अभी जाओगे घर …

Read moreकभी प्यारा कोई मंज़र लगेगा / अब्दुल्लाह जावेद

अश्क ढलते नहीं देखे जाते / Ashq Dhalte Nahi Dekhe Jate / अब्दुल्लाह जावेद

अश्क ढलते नहीं देखे जाते दिल पिघलते नहीं देखे जाते फूल दुश्मन के हों या अपने हों फूल जलते नहीं देखे जाते तितलियाँ हाथ भी लग जाएँ तो पर मसलते नहीं देखे जाते जब्र की …

Read moreअश्क ढलते नहीं देखे जाते / Ashq Dhalte Nahi Dekhe Jate / अब्दुल्लाह जावेद

चाँदनी का रक़्स दरिया पर नहीं देखा गया / अब्दुल्लाह जावेद

चाँदनी का रक़्स दरिया पर नहीं देखा गया  आप याद आए तो ये मंज़र नहीं देखा गया आप के जाते ही हम को लग गई आवारगी आप के जाते ही हम से घर नहीं देखा …

Read moreचाँदनी का रक़्स दरिया पर नहीं देखा गया / अब्दुल्लाह जावेद

याद यूँ होश गंवा बैठी है / अब्दुल्लाह जावेद

याद यूँ होश गंवा बैठी है जिस्म से जान जुदा बैठी है राह तकना है अबस सो जाओ धूप दीवार पे आ बैठी है आशियाने का ख़ुदा ही हाफ़िज़ घात में तेज़ हवा बैठी है …

Read moreयाद यूँ होश गंवा बैठी है / अब्दुल्लाह जावेद

दुनिया ने जब डराया तो डरने में लग गया / अब्दुल्लाह जावेद

दुनिया ने जब डराया तो डरने में लग गया दिल फिर भी प्यार आप से करने में लग गया शायद कहीं से आप की ख़ुशबू पहुँच गई माहौल जान ओ दिल का सँवरने में लग …

Read moreदुनिया ने जब डराया तो डरने में लग गया / अब्दुल्लाह जावेद