कविता की मौत / Kavita Ki Maut / अनंत भटनागर

मस्तिष्क की विराट्
शून्यता को चीरकर

विचार
जन्म पाते हैं।
शब्दों की देहरी
चढते-चढते
संवादों से
मुठभेड कर
दम तोड जाते हैं।
और फिर
दिनदहाडे
एक कविता की
मौत हो जाती है।

अनंत भटनागर अन्य कविताएँ