Skip to content
Home » सर्वनाम किसे कहते हैं ? सर्वनाम के भेद और उदाहरण

सर्वनाम किसे कहते हैं ? सर्वनाम के भेद और उदाहरण

सर्वनाम किसे कहते हैं (Sarvanam Kise Kahte Hain):- नमस्कार दोस्तों ! आज इस पोस्ट में हम हिंदी व्याकरण के एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक (सर्वनाम) के बारे में विस्तार से पढ़ेंगे। दोस्तों यदि आप किसी भी प्रकार की प्रतियोगी परीक्षा या हिंदी भाषा एवं साहित्य में कोई पढ़ाई कर रहें हैं तो इस टॉपिक को अच्छे से पढ़ना आपके लिए नितांत आवश्यक है। सर्वनाम से सम्बंधित सवाल हर बार परीक्षा में पूछे जाते हैं, इसलिए आप सर्वनाम किसे कहते हैं तथा इसके भेद कितने है ये अच्छे से तैयार करके रखें ताकि आपका रिजल्ट सकारात्मक रहें।

 सर्वनाम किसे कहते हैं

सर्वनाम का अर्थ एवं परिभाषा

सर्वनाम दो शब्दों से मिलकर बना है – सर्व + नाम

सर्व का अर्थ – सभी के लिए

नाम का अर्थ – नाम वाले शब्द अर्थात संज्ञा

सर्वनाम किसे कहते हैं (Sarvanam Kise Kahte Hain)

ऐसे शब्द जो संज्ञा के स्थान पर प्रयोग में लाए जाते हैं, उन्हें सर्वनाम कहा जाता हैं। उदाहरण :- मैं, आप, कोई, यह, वह आदि।

सर्वनाम का प्रयोग इसलिए किया जाता है ताकि वाक्य में बार-बार संज्ञा शब्दों की पुनरावृति ना हो तथा भाषा की सुंदरता बनी रहें।

आइये इसे उदाहरण की सहायता से समझने का प्रयास करते है :-

राम पहले पढ़ाई करता है तथा फिर राम खेलने जाता है।

इस वाक्य में राम शब्द का प्रयोग 2 बार हुआ है जिसकी वजह से यह वाक्य बहुत ही अशुद्ध प्रतीत हो रहा है। यदि हम इस वाक्य में सर्वनाम का प्रयोग करें तो उसके बाद यह वाक्य इस प्रकार से होगा –

राम पहले पढ़ाई करता है तथा फिर वह खेलने जाता है।

यहाँ पर दूसरी बार राम शब्द के स्थान पर वह का प्रयोग हुआ है जिससे यह वाक्य सुंदर और शुद्ध रूप में हो गया है। इसीलिए भाषा की सुंदरता एवं उसकी शुद्धता के लिए सवर्नाम शब्दों का प्रयोग किया जाता है।

सर्वनाम की संख्या कितनी होती हैं ?

हिंदी भाषा में मूल रूप से सर्वनाम वाले शब्दों की संख्या 11 (ग्यारह) होती हैं :- मैं, तू, आप, यह, वह, जो, सो, कोई, कुछ, कौन, क्या। 

सर्वनाम एक विकारी शब्द है जो लिंग, वचन, कारक आदि के कारण अपना रूप बदल लेता है।

सर्वनाम के कितने भेद हैं ?

प्रयोग की दृष्टि से सर्वनाम के छः भेद होते हैं –

1. निश्चयवाचक सर्वनाम

2. अनिश्चयवाचक सर्वनाम

3. संबंधवाचक सर्वनाम  

4. प्रश्नवाचक सर्वनाम

5. निजवाचक सर्वनाम 

6. पुरुषवाचक सर्वनाम

1. निश्चयवाचक सर्वनाम

जिन शब्दों से निकट या दूर के व्यक्तियों या वस्तुओं का निश्चयात्मक संकेत व्यक्त होता है उन्हें निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।

उदाहरण – यह, वह, ये, वे आदि।

‘यह’ निकट के लिए प्रयोग होता है।

‘वह’ दूर के लिए प्रयोग होता है।

2. अनिश्चयवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों से किसी निश्चित वस्तु या व्यक्ति का बोध नहीं होता उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।

उदाहरण – कोई, कुछ आदि।

‘कोई’ सीढ़ियों से नीचे आ रहा है।

‘कुछ’ लोग हमारी तरफ चले आ रहें है।

3. संबंधवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों का किसी दूसरे सर्वनाम से संबंध पाया जाता है वहाँ संबंधवाचक सर्वनाम होता हैं।

उदाहरण – जो, सो, जिसकी, उसकी, जैसा, वैसा आदि

जिसकी जैसी सोच वैसी बात।

जो आता है सो जाता है।

इन वाक्यों में एक सर्वनाम का दूसरे के साथ संबंध स्थापित है इसलिए यहाँ पर संबंधवाचक सर्वनाम हैं।

4. प्रश्नवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों से किसी प्रकार के प्रश्न होने का बोध होता हैं उसे प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते हैं।

उदाहरण – क्या, कौन, कैसे, कहाँ आदि।

क्या तुम आज दफ़्तर जा रहें हो ?

यह कौन आ रहा है ?

5. निजवाचक सर्वनाम 

जो सर्वनाम शब्द स्वयं या खुद के लिए प्रयुक्त होते है उन्हें निजवाचक सर्वनाम कहा जाता हैं।

उदाहरण – स्वयं, आप, अपना, स्वतः आदि।

मैं स्वयं खाना पकाता हूँ।

मैं अपने आप चला जाऊँगा।

6. पुरुषवाचक सर्वनाम 

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग वक्ता द्वारा खुद के लिए या दूसरों के लिए किया जाता हैं उसे पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।

उदाहरण – मैं, हम, तुम, आप आदि।

पुरुषवाचक सर्वनाम के तीन भेद है :-

(अ) उत्तम पुरुष

(ब) मध्यम पुरुष

(स) अन्य पुरुष

(अ) उत्तम पुरुष :- बोलने वाला अपने लिए जिन सवर्नाम शब्दों का प्रयोग करता हैं उसे उत्तम पुरुष कहते हैं।

उदाहरण – मैं, हम, मैंने, हमने, मेरा, मुझको आदि।

वाक्य के रूप में उत्तम पुरुष के कुछ उदाहरण –

मैं आज खेलने नहीं जाऊगां।

हम प्रतिदिन सैर पर जाते हैं।

मैंने अपना गृहकार्य पूरा कर लिया है।

हमने मिलकर सारा कचरा साफ़ कर दिया।

मेरा नया फ़ोन कल आएगा।

मुझको आज प्रतियोगिता में पहला स्थान हासिल हुआ।

(ब) मध्यम पुरुष :- सुनने वाले व्यक्ति के लिए जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग होता हैं उसे मध्यम पुरुष कहते हैं।

उदाहरण – तुम, तुम्हें,  आप, आपने, तुमसे आदि।

वाक्य के रूप में मध्यम पुरुष के कुछ उदाहरण –

तुम कल से विद्यालय आना शुरू करो।

तुम्हें आज ही सारी फाइल पढ़ लेनी चाहिए।

आप एक विद्वान व्यक्ति नज़र आते है।

(स) अन्य पुरुष :- वक्ता और श्रोता को छोड़कर अन्य व्यक्तियों के लिए जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग किया जाता हैं उसे अन्य पुरुष कहते हैं।

उदाहरण – इन, उन, उनको, उनसे, यह, वह आदि।

वाक्य के रूप में अन्य पुरुष के कुछ उदाहरण –

यह पुस्तक लाल रंग की है।

वह क्रिकेट खेल रहा है।

उनसे हमें एक बार बात करनी चाहिए।

उनको और अधिक पढ़ने की जरूरत है।

प्यारे दोस्तों हमें पूर्ण उम्मीद है कि आपको सर्वनाम किसे कहते हैं वाला यह आर्टिकल निश्चित रूप से पसंद आया होगा। इस टॉपिक के विषय में हमने सम्पूर्ण जानकारी आपको प्रदान की है। किन्तु इसके बावजूद भी यदि कोई पाठक सर्वनाम से सम्बंधित सवाल करना चाहता है तो आप हमें कमेंट के जरिये पूछ सकते है।

इन्हें भी अवश्य पढ़ें :-

भाषा किसे कहते हैं

संज्ञा किसे कहते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *